June 25, 2024
Gambling Act 1867 in India

Gambling Act 1867 in India

Spread the love

भारत में जुआ खेलने पर कानून

Gambling Act 1867 in India- भारत में जुए कानून का  प्रावधान (Gambling Act) है। इसका प्रमुख क़ानून 1867 का ‘पब्लिक गैम्बलिंग एक्ट‘ (Public Gambling Act) है। यह क़ानून ब्रिटिश औपनिवेशिक काल के दौरान बनाया गया था और यह पूरे भारत के लिए लागू होता है, सिवाए सिक्किम और नागालैंड के राज्यों के, जिनमें इनके ख़ुद के जुए कानून हैं।Gambling Act 1867 in India

Gambling Act 1867 in India
Gambling Act 1867

1867 के ‘पब्लिक गैम्बलिंग एक्ट’ के तहत, सार्वजनिक जुआघर का संचालन प्रतिबंधित है। इस क़ानून में जुआघर को किसी भी जगह के रूप में परिभाषित किया गया है, सामान्य जुआघर या किसी अन्य रूप में इस्तेमाल होने वाली किसी भी जगह को। इसके अलावा, इसके तहत जुआघर के प्रबंधन में शामिल होना या प्रबंधन में सहायता करना भी अवैध है।

यह क़ानून विशेष रूप से ऑनलाइन जुआ या शर्तबंदी के बारे में उल्लेख नहीं करता है, क्योंकि यह इंटरनेट के युग से बहुत पहले बनाया गया था। इसलिए, ऑनलाइन जुआ भारत में कानूनी ग्रे क्षेत्र में आता है। हालांकि, कुछ भारतीय राज्य ने अपने क्षेत्र में ऑनलाइन जुआ को विनियमित या प्रतिष्ठित करने के लिए अपना विधान पास किया है।

भारतीय गैंबलिंग एक्ट की मुख्य धाराएं-Gambling Act 1867 in India

धारा 3: यदि कोई व्यक्ति सार्वजनिक जगह पर जुआ खेलने के लिए जाता है या सार्वजनिक जगह का प्रबंधन करता है, तो उसे दंडित किया जा सकता है। धारा 3 के तहत, जुआ खेलना और सार्वजनिक जगह में जुआघर का प्रबंधन करना अपराधिक अभियान्त्रित कार्य माना जाता है। इसमें जुआघर के आयोजन, निर्देशन, प्रशासन, और सार्वजनिक जगह में जुआघर की संचालन शामिल होते हैं। धारा 3 के उल्लंघन पर, दंडाधिकारी जुआखेलने वाले व्यक्ति को दंडित कर सकता है, जिसमें जुर्माना या कड़ी सजा शामिल हो सकती है।

धारा 4: धारा 4 के तहत, यदि कोई व्यक्ति या संघ जुआघर का प्रबंधन करने के लिए नियुक्त किया जाता है, तो उसे दंडित किया जा सकता है। इसमें जुआघर के मालिक, संचालक, निदेशक या किसी अन्य जिम्मेदार व्यक्ति के उपरांत संगठनिक रूप से जुआघर का प्रबंधन करना शामिल होता है। धारा 4 के उल्लंघन पर, उपयुक्त दंडाधिकारी नियुक्त व्यक्ति को दंडित कर सकता है, जिसमें जुर्माना या कड़ी सजा शामिल हो सकती है।Gambling Act 1867 in India

Gambling Act 1867 in India
Gambling Act 1867 in India

धारा 5: धारा 5 के अनुसार, जुआघर पर जुआ खेलने वाले को भी दंडित किया जा सकता है। यह व्यक्ति, जो जुआघर पर जुआ खेलने के लिए आता है और जुआ खेलता है, भी अपराधी माना जाता है। धारा 5 के तहत उल्लंघन पर, उपयुक्त दंडाधिकारी जुआखेलने वाले को दंडित कर सकता है, जिसमें जुर्माना या कड़ी सजा शामिल हो सकती है।

जुआ एक्ट की धारा 13 – जुआ एक्ट धारा 13 एक जमानती अपराध है | इसके तहत शर्त लगाकर जुआ खेलने वालों पर क़ानूनी कारवाई की जाती है | जमानती अपराध होने के कारण सटा लगाने वाले आसानी से इस अपराध को अंजाम देकर अदालत से छूट जाते हैं |

यह धाराएं गैंबलिंग एक्ट के अंतर्गत होती हैं और इसे भारतीय कानून के तहत जुआघर और सार्वजनिक जगहों पर जुआखेलने को नियमित करने के लिए जारी किया गया है।


Spread the love

Leave a Reply