April 25, 2024
punjab cm bhagwant mann

punjab cm bhagwant mann

आम आदमी पार्टी ने पंजाब में भगवंत मान के नेतृत्व में विधानसभा की कुल 117 सीटों पर चुनाव लड़ा था यहां आप पार्टी को 117 में से 92 सीटों से पूर्ण बहुमत मिला।
Spread the love

चंडीगढ़ : पंजाब विधान सभा चुनावों के नतीजों ने पंजाब में एक इतिहास ही रच दिया। यहां वीरवार को आये नतीजों में आप का जबरदस्त तूफान पंजाब में चला जिसके सामने राजनीतक ने दिग्ज भी उड़ गए। पंजाब के पांच बार मुख्यमंत्री रहे प्रकाश सिंह बादल , पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह(Captain Amrinder Singh ) , नवजोत सिंह सिद्धू , मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी(Chief Minister Charanjit Singh Channi) , विक्रम मजीठिया व सुखबीर बादल(Sukhbir Badal) भी अपने अपने हल्के से चुवाव हर गए। यहां आप की जबरदस्त जीत हुई।

punjab cm bhagwant mann news
Punjab CM Bhagwant Maan With Mother

आम आदमी पार्टी (Aam Admi Party)ने पंजाब में भगवंत मान के नेतृत्व में विधानसभा की कुल 117 सीटों पर चुनाव लड़ा था यहां आप पार्टी को 117 में से 92 सीटों से पूर्ण बहुमत मिला। आम आदमी पार्टी(AAP) ने किसी भी दूसरी पार्टी को मुकम्मल विपक्ष बनने तक का मौका नहीं दिया। यह 56 साल में किसी एक पार्टी की सबसे बड़ी जीत है, जबकि आजादी के बाद आप ने सूबे में तीसरी सबसे बड़ी जीत हासिल की है।

punjab cm bhagwant mann
Punjab AAP Bhagwant Maan

पंजाब में सियासी बदलाव के कयास तो पहले से ही लगाए जा रहे थे लेकिन पंजाब की जनता ये बदलाव इतने बड़े स्तर पर करेगी ये किसी को अंदाज़ा भी नहीं था। यहां कई राजनितिक पंडित तो पंजाब में तिरकोनिय मुकाबला देख रहे थे। लेकिन यहां पंजाब के मतदाताओं ने बड़े स्तर पर आम आदमी पार्टी को जबरदस्त समर्थन दिया।

आप का 92 सीटों पर कब्ज़ा

यहां कांग्रेस(Congress) को 18 सीटें , आम आदमी पार्टी को 92 सीटें बीजेपी गठबंधन को मात्र दो सीटें , अकाली बसपा को चार सीटों व अन्य को एक सीट से सब्र करना पड़ा। 1966 में हरियाणा(Hariyana) के अलग होने के बाद पिछले 56 साल में यह पंजाब(Punjab) में किसी एक राजनीतिक पार्टी की सबसे बड़ी जीत है। इससे पहले, 1992 में पंजाब में आतंकवाद के दौरान कांग्रेस ने अपने बूते 87 सीटें जीती थीं, लेकिन उस समय शिरोमणि अकाली दल ने चुनाव का बहिष्कार किया था।

इसके बाद 1997 के चुनाव में अकाली दल और BJP ने मिलकर 93 सीटें जीती थीं। उस समय अकाली दल को 75 और BJP को 18 सीटों पर जीत मिली थी।


 


Spread the love

Leave a Reply