May 21, 2024
end of the world

File Photo

Spread the love

हम धरती पर कितने समय ओर जिन्दा रहेंगे या धरती पर मानव का अस्तित्व कितना बचा है ऐसे सवाल हावर्ड यूनिवर्स्टी के प्रोफेसर से दुनियांभर के लोगों की तरफ से और वैज्ञानिकों से अक्सर ही पूछे जाते रहे हैं। हालही में हावर्ड युनिवेर्सिटी के प्रोफेसर ओर वैज्ञानिक ऐवी लोयब ने इन सवालों के जवाब दिए हैं। ऐवी लोयब ने सबसे पहले वैज्ञानिकों को जलवायु परिवर्तन को रोकने की अपील की है उन्होंने कहा कि वैज्ञानिक सही दिशा में काम नहीं कर रहे हैं।

Climate change
Save Earth

उन्होंने कहा कि हमे सब को खाना मिले , सभी के लिए पूरी मात्रा में दवाईंयां हो यानि इंसानों की हर समस्यों का समाधान करने पर विचार करना होगा हमे अंतरिक्ष में और भी स्पेस स्टेशन स्तापित करने होंगे। उन्होंने कहा कि हमे एलियन से भी सम्पर्क करना चाहिए जिस दिन हम पूरी तरह तकनीक में सक्षम हो जायेंगे उसी दिन धरती पर इंसानों की पूरी पीढ़ी और धरती नष्ट होने को तैयार हो जाएगी। लेकिन उस समय हम इन्ही खोजे गए विकल्पों से इन्सानो को बचा पाएंगे।

alien images
Alien

हावर्ड युनिवेर्सिटी के छात्र सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए ऐवी लोएब ने कहा कि हमे सबसे पहले इंसानों की उम्र बढ़ाने की तकनीक पर काम करना चाहिए उन्होंने कहा अक्सर पूछा जाता है कि ये सभ्यता कितने साल तक रहेगी तो मेरा जवाब होगा कि ये सभ्यता आज से कई हज़ारों साल पहले शुरू हुई थी तब इसका बचपन था लेकिन अब हम किशोर काल ओर युवा काल में प्रवेश कर चुके हैं। यह अब कुछ सदिओं तक बची रह सकती है लेकिन इससे ज्यादा नहीं।

Avi Loeb
Avi Loeb

उन्होंने ये भी कहा कि जिस तरह इंसान धरती को ख़राब कर रहा है इंसान ज्यादा समय धरती पर जीवित नहीं रह पायेगा। प्रोफेसर ने कहा कि फिर इंसानों को स्पेस में जाकर रहना पड़ेगा लेकिन वहां भी इतना आसान नहीं होने वाला है। यहां पर महामारी ओर युद्ध साथ ही जलवायु परिवर्तन इस धरती को नष्ट करने की ओर ले जा रहे हैं। लोबे ने कहा अगर सही तरिके से कार्य नहीं किया गया तो या तो इंसान खुद खत्म हो जायेंगे या फिर धरती इन्हे आपदाओं ओर महामारी से खत्म कर देगी। उन्होंने ये भी कहा कि धरती पर इतना अत्याचार हो रहा है हो सकता है धरती खुद अपने आप ही नष्ट हो जाएगी।

Alein
Alein

ऐवी लोएब ने कहा आजकल जलवायु परिवर्तन की वजह से मौसम में परिवर्तन हो चूका है , जंगलों में आग लग रही है , ग्लेसियर पिंघल रहे हैं सालों से शांत पड़े ज्वालामुखी भी आग उगलने लगे हैं जो प्रकीर्ति की नाराजगी को साफ साफ उजागर करते हैं। उन्होंने कहा कि हमे प्रकीर्ति से छेड़छाड़ करने का कोई अधिकार नहीं हैं हम सभी यहां के मेहमान हैं न की मालिक। अगर हम प्रकीर्ति से छेड़छाड़ करते हैं तो हमे बर्बादी ही मिलेगी , क्यूंकि हमने कुदरत के बनाये जंगलों व पहाड़ों , ग्लेशियरों को भी नहीं छोड़ा जिसका बदला तो कुदरत हमसे जरूर लेगी और ले भी रही है।

end of the world
File Photo

ऐवी ने कहा कि मानव सभ्यता कब तक रहेगी इसकी सही से भविष्यबाणी तो नहीं की जा सकती क्यूंकि ये इसपर निर्भर करता है कि मानव ने तकनीकी विकास कैसे किया है ऐसे में मानव खुद ही अपने अस्तित्व को खत्म कर लेगा। क्यूंकि सूर्य के पहले भी कई ग्रह थे हो सकता है उन पर भी जीवन सम्भव हो। या उन्होंने ऐसी वो अपनी सभ्यता प्राचीन और पारम्परिक सभय्ता से मिलाकर चल रहे हों। ताकि सभ्यता के चक्कर में अपनी पहचान ही न खो दें।

triumph_of_the_flat_earth_republicans
File Photo

इंसान को फिलहाल अंतरिक्ष की प्राचीनता की स्टडी करनी चाहिए. उन्हें मृत तकनीकी सभ्यताओं की खोज करनी चाहिए. यह पता करना चाहिए कि ये सभ्यताएं कैसे खत्म हुई कहीं ऐसी ही हालत इंसानों के साथ न हो. लेकिन इंसान हमेशा से अपने जीने का रास्ता निकाल लेता है. इसलिए हो सकता है कि भविष्य में इंसान अंतरिक्ष में जाकर खुद को बचाने में कामयाब हो जाए। लेकिन कठिनाइयां वहां भी कम नहीं है।
Howard-University-scientist-claims-that-Earth-aliens-came-4-years-ago
Alien

आखिरकार स्पेस स्टेशन बनाएंगे तो किसी ने किसी ग्रह के आसपास ही , जिसकी कोई गुरुत्वाकर्षण शक्ति हो। बिना ग्रैविटी वाले ग्रह के स्पेस स्टेशन का मतलब नहीं रहता , या फिर आप अंतरिक्ष में स्टेशन बनाकर उसे अनंत यात्रा के लिए छोड़ दीजिए। यानी धरती खत्म होगी तो उसकी ग्रैविटी भी खत्म हो जाएगी, ऐसे में इंसान इसकी ग्रैविटी का उपयोग करके अंतरिक्ष में लटके नहीं रह पाएंगे।


Spread the love

Leave a Reply