April 25, 2024
Spread the love

नवजात शिशु की सेहत: माता-पिता के लिए महत्वपूर्ण जानकारी

नवजात शिशु की कमजोर इम्युनिटी उसे बार -बार बीमार करती है ऐसे में सर्दी बुखार होना आम बात है | कई बार शिशु के बार -बार बीमार होने का कारण स्वच्छता की कमी होता है |
ऐसे में अपने लाडले को स्वस्थ रखने के लिए साफ़ -सफाई का ख्याल रखना जरूरी है ,स्वच्छता कीटाणुओं से दूर रखती है यह जिम्मेदारी जन्मदाता होने के नाते आपकी है किसी और की नहीं |

  • हाथों को जरूर धोएं -बच्चे को गोद में लेने ,खाना खिलाने या डायपर बदलने से पहले साबुन और पानी से हाथ धोएं | घर पर साफ -सफाई का खास ध्यान रखें | अगर हाथ नहीं धो रही हैं तो सेनेटाइजर का इस्तेमाल करें |

nvjat shishu ki dekhbhal kese kren

nvjat shishu ki dekhbhal kese kren nvjat ki seht ka khyal kese rkhen
nvjat shishu ki dekhbhal kese kren, nvjat ki seht ka khyal kese rkhen

फौजी को हनी ट्रैप में फंसाया पांच लाख की मांग करने वाले पांच गिरफ्तार

  • चपलों का प्रवेश बंद – बच्चे के कमरे में बाहर से आने वाली चपलों को न आने दें | बाहर से आने वाली चपलों में कीटाणु होते हैं इसलिए डोरमेट गंदे कपड़े और कूड़ेदान से भी शिशु को दूर रखें |
    कपड़ों की सफाई – शिशु के कपड़े साफ और पूरी तरह सूखे होने चाहिए ,इसके इलावा मां के कपड़े भी साफ होना बहुत जरूरी है |
  • डायपर का ख्याल -बच्चे के डायपर का हमेशा ध्यान रखें और टाइम पर उसे बदलते रहें | शिशु के अंगों को हमेशा वाइप्स और टिशू से साफ करती रहें ,जिससे वह इंफेक्शन के खतरे से दूर रहे |
  • बच्चे के नाख़ून -बच्चे के नाख़ून बढ़ने से बैक्टीरियल इंफेक्शन का खतरा बढ़ जाता है नाखूनों में गंदगी होती है ,इसलिए मां और बच्चे दोनों के ही नाख़ून कटे होने चाहिए | शिशु के नाख़ून काटते समय ख्याल रखें कि उसके सोने पर ही उसके नाख़ून काटें |
  • पर्याप्त दुरी भी भलीकोरोना के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग कि बातें अक्स होती थी | उस समय सोशल डीस्टेसिंग की प्रेक्टिस हमेशा होती थी लेकिन बच्चे के साथ यह अभ्यास अब भी जारी रखने की जरूरत है | इसके लिए आप बच्चे के जन्म से लेकर कुछ समय तक इसका पालन करती रहें | बाहर से आने वाले लोग उसके गालों और हाथों को न चूमें ,इससे संक्रमण का खतरा रहता है इस तरह आप अपने लाडले को बीमारी से दूर रख सकती है |

Spread the love

Leave a Reply