May 21, 2024
Home Remedies to Avoid Heart Disease

Home Remedies to Avoid Heart Disease

Spread the love

दिल की बीमारी से बचने के घरेलू उपाय। क्यों होता है ह्दय रोग, दिल की बीमारी के कारण

Home Remedies to Avoid Heart Disease- घरेलू उपाय और जीवनशैली में परिवर्तन हृदय रोग के खतरे को कम करने में मदद कर सकते हैं, लेकिन इन्हें पेशेवर चिकित्सा सलाह और उपचार के स्थान पर उपयोग करना अनुचित है। नए योजना शुरू करने से पहले हेल्थकेयर पेशेवर से परामर्श करना बहुत महत्वपूर्ण है। यहां कुछ ऐसे घरेलू उपाय और जीवनशैली परिवर्तन बताए गए हैं जो हृदय स्वास्थ्य को समर्थन कर सकते हैं:

  1. स्वस्थ आहार: सेब, खजूर, गाजर, लहसुन, पालक, फल, दालें और द्रवियों का सेवन करना हृदय रोग के खतरे को कम कर सकता है। विशेषकर, तेल, मक्खन, बटर, तला हुआ और तैयार खाद्य पदार्थों के सेवन को कम करना अच्छा रहेगा।
  2. नियमित व्यायाम: रोजाना या नियमित रूप से व्यायाम करना, जैसे कि चलना, जॉगिंग, साइक्लिंग, तैराकी, या किसी भी गतिविधि में हृदय दर को बढ़ाने के लिए मदद कर सकता है। सप्ताह में कम से कम 150 मिनट या गतिविधि के अधिकतम 75 मिनट का माध्यम-चिर-गति व्यायाम लक्षित करें।
  3. वजन प्रबंधन: शारीरिक गतिविधि के साथ अपनी खुराक को संतुलित रखकर स्वस्थ वजन बनाए रखना हृदय रोग के खतरे को कम करता है। विशेषकर कमर के आसपास अतिरिक्त वजन के साथ अनुभव होने वाले लोग हृदय रोग के लिए ज्यादा संबंधित होते हैं।
  4. धूम्रपान न चाहें: धूम्रपान करने से रक्तवाहिनियों में क्षति होती है, रक्तचाप बढ़ता है और हृदय रोग का खतरा बढ़ता है। धूम्रपान छोड़ने से हृदय स्वास्थ्य में सुधार हो सकता है।
  5. मात्राबद्ध शराब का सेवन: यदि आप शराब पीते हैं, तो इसे मात्राबद्ध रूप से सेवन करें। अधिक शराब का सेवन रक्तचाप को बढ़ा सकता है और हृदय रोग का खतरा बढ़ा सकता है।
  6. तनाव प्रबंधन: दिनचर्या में पारंपरिक धार्मिक अभ्यास, ध्यान, गहरी सांस लेने के अभ्यास या पसंदीदा हॉबी जैसे तनाव को कम करने के तकनीकों का अनुसरण करना हृदय स्वास्थ्य में मदद कर सकता है।
  7. पर्याप्त नींद: रात में 7-9 घंटे की अच्छी नींद लेना हृदय संबंधी समस्याओं में मदद कर सकता है। खराब नींद हृदय के समस्याओं में योगदान कर सकती है।
  8. रक्तचाप नियंत्रण: नियमित रूप से अपने रक्तचाप का पता करें, और यदि यह उच्च हो रहा है, तो हेल्थकेयर प्रदाता के साथ मिलकर इसे जीवनशैली परिवर्तन और आवश्यकता अनुसार दवा के माध्यम से प्रबंधित करें।
  9. डायबिटीज को नियंत्रित करें: यदि आपको डायबिटीज है, तो हेल्थकेयर टीम के साथ मिलकर खुराक, व्यायाम और जरूरत अनुसार दवाईयों के माध्यम से अपने रक्त शर्करा स्तर को प्रबंधित करने में मदद करें।
  10. ओमेगा-3 फैटी एसिड्स: मछली (सैलमन, मैकरल, सार्डिन्स), अलसी बीज, और चिया बीज जैसे ओमेगा-3 फैटी एसिड्स के स्रोतों को आपके आहार में शामिल करें। ओमेगा-3 फैटी एसिड्स के हृदय स्वास्थ्य के लाभ संबंधी शोध की जांच करें।
  11. लहसुन: कुछ शोध इस बात की सिफारिश करते हैं कि लहसुन में हृदय स्वास्थ्य के लिए फायदे हो सकते हैं, लेकिन इसका प्रभाव निश्चित रूप से नहीं होता है। फिर भी, खाने में लहसुन शामिल करना फायदेमंद साबित हो सकता है।
  12. हिबिस्कस चाय: कुछ शोध इस बात की सुझाव देते हैं कि हिबिस्कस चाय से रक्तचाप को कम किया जा सकता है, लेकिन इसकी पूरी तरह से प्रभावशीलता की पुष्टि करने के लिए अधिक अध्ययनों की आवश्यकता है।

ध्यान रखें, ये घरेलू उपाय और जीवनशैली परिवर्तन हृदय स्वास्थ्य का समर्थन कर सकते हैं, लेकिन वे चिकित्सा सलाह और उपचार के स्थान पर नहीं हैं। यदि आपको हृदय स्वास्थ्य के बारे में चिंता है या हृदय रोग का खतरा है, तो व्यक्तिगत मार्गदर्शन और सिफारिशों के लिए हेल्थकेयर पेशेवर से परामर्श करें। 

home-remedies-to-avoid-heart-disease
Heart Disease

क्यों होता है ह्दय रोग, दिल की बीमारी के कारण-Home Remedies to Avoid Heart Disease

हृदय रोग, जिसे कार्डियोवैस्कुलर रोग भी कहा जाता है, एक समूह है जो हृदय और रक्तवाहिनियों को प्रभावित करता है। हृदय रोग के सबसे आम प्रकार में कोरोनरी धमनी रोग, हृदय विफलता, अनियमित धड़कन (अरिथ्मिया) और वाल्व्यूलर हृदय रोग शामिल हैं। हृदय रोग विश्वभर में मृत्यु के प्रमुख कारणों में से एक है।

कोरोनरी धमनी रोग (सीएडी) हृदय रोग का सबसे आम प्रकार है। यह इसलिए होता है कि कोरोनरी धमनियां, जो हृदय मांसपेशी को ऑक्सीजन से भरा हुआ रक्त प्रदान करती हैं, धीरे-धीरे बंद या ब्लॉक हो जाती हैं, जिससे शरीर को यथार्थ में काम करने के लिए पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिलती है। इन प्लाक्स की वजह से रक्त प्रवाह बाधित हो जाता है, जिससे हृदय को भी ऑक्सीजन मिलने में कमी होती है, जिससे छाती में दर्द (एंजाइना) या हृदयघात (मायोकार्डियल इन्फ़ार्क्शन) हो सकता है।

हृदय रोग होने की यह विशेष कारणे हैं:

  1. अनौपचारिक आहार: अधिक वसा, विषैले और ट्रांस फैट, कोलेस्ट्रॉल, नमक, और शक्कर से भरा हुआ आहार खाने से हृदय रोग का खतरा बढ़ता है।
  2. नियमित शारीरिक गतिविधि: नियमित शारीरिक गतिविधि जैसे चलना, दौड़ना, साइकिलिंग, तैराकी, योगा आदि करना हृदय रोग के लिए लाभकारी होता है।
  3. धूम्रपान छोड़ें: धूम्रपान करने से रक्तवाहिनियों में क्षति होती है, रक्तचाप बढ़ता है और अच्छे कोलेस्ट्रॉल (एचडीएल) कम हो जाता है, जिससे हृदय रोग का खतरा बढ़ता है।
  4. उच्च रक्तचाप: उच्च रक्तचाप हृदय पर अतिरिक्त दबाव डालता है और हृदय रोग का खतरा बढ़ाता है।
  5. उच्च कोलेस्ट्रॉल स्तर: उच्च एलडीएल कोलेस्ट्रॉल (बुरा कोलेस्ट्रॉल) के स्तर से धमनियों में प्लाक्स के बनने का खतरा बढ़ जाता है।
  6. मोटापा: मोटापा हृदय पर अतिरिक्त दबाव डालता है और डायबिटीज जैसी अन्य रिस्क फैक्टर्स से जुड़ा हो सकता है।

    home-remedies-to-avoid-heart-disease
    Heart Disease Symptoms
  7. डायबिटीज: जिन लोगों को डायबिटीज होता है उनके हृदय रोग का खतरा बढ़ जाता है, क्योंकि उच्च रक्त शर्करा रक्तवाहिनियों को क्षति पहुंचाने में सक्षम होती है।
  8. परिवार का इतिहास: हृदय रोग का परिवार के इतिहास का होना हृदय रोग के लिए एक आनुवंशिक प्रवृत्ति का संकेत कर सकता है।
  9. उम्र और जेंडर: जैसे-जैसे उम्र बढ़ने लगती है , हृदय रोग का खतरा बढ़ता है। पुरुषों का खतरा महिलाओं से अधिक होता है, लेकिन महिलाओं का खतरा मेनोपॉज़ के बाद बढ़ जाता है।
  10. तनाव: दृढ़ तनाव हृदय के स्वास्थ्य पर असर डाल सकता है। धर्मिक योग अभ्यास, ध्यान, गहरी सांस लेने का अभ्यास या पसंदीदा शौकों का अनुभव करना, आदि तनाव को कम करने में मदद कर सकता है।

यह दिखाता है कि इन रिस्क फैक्टर्स को समझें और उन्हें प्रबंधित करके हृदय रोग के खतरे को कम किया जा सकता है। नियमित व्यायाम, संतुलित आहार, धूम्रपान न करना, तनाव को प्रबंधित करना और उच्च रक्तचाप और डायबिटीज जैसी स्थितियों का सम्बंधित चिकित्सक से नियंत्रित करना हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण कदम हैं।

घर पर हृदय रोग की जांच कैसे करें

घर पर हृदय रोग की जाँच करना संभव नहीं है। हालाँकि, आप सीने में दर्द, सांस लेने में तकलीफ, थकान, अनियमित दिल की धड़कन, सूजन, चक्कर आना या शरीर के अन्य क्षेत्रों में दर्द जैसे संभावित लक्षणों से अवगत हो सकते हैं। यदि आपको इनमें से कोई भी लक्षण दिखाई देता है, तो तत्काल चिकित्सा सहायता लें और उचित मूल्यांकन और निदान के लिए स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श लें। हृदय स्वास्थ्य के लिए अपने डॉक्टर से नियमित जांच कराना आवश्यक है। स्व-निदान और स्व-उपचार से बचें, क्योंकि यह खतरनाक हो सकता है। हमेशा योग्य चिकित्सा पेशेवरों से परामर्श लें।


Spread the love

Leave a Reply