April 23, 2024
Chandrayaan-3 launch date News

Chandrayaan-3 launch date News

Spread the love

भारत करेगा 23 जुलाई को चंद्रमा पर चंद्रयान-3 मिशन लॉन्च

नई दिल्ली :Chandrayaan-3 launch date News- भारत का तीसरा चंद्र मिशन, चंद्रयान-3, 23 जुलाई, 2023 को लॉन्च होने के लिए तैयार है। मिशन चंद्र सतह पर एक लैंडर और रोवर को सॉफ्ट-लैंड करने का प्रयास करेगा। भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम के जनक विक्रम साराभाई के नाम पर लैंडर का नाम विक्रम रखा गया है। रोवर का नाम प्रज्ञान रखा गया है, जिसका संस्कृत में अर्थ है “ज्ञान”।

यह मिशन भारत के श्रीहरिकोटा में सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से लॉन्च होने वाला है। इसे जीएसएलवी मार्क III हेवी लिफ्ट लॉन्च वाहन पर लॉन्च किया जाएगा। इस मिशन के लगभग 5 दिनों में चंद्रमा पर पहुंचने की उम्मीद है।

लैंडर मारे सेरेनिटैटिस में चंद्रमा की सतह पर उतरेगा, चंद्रमा का एक क्षेत्र जिसे पानी की बर्फ से समृद्ध माना जाता है। फिर रोवर लैंडर से तैनात होगा और आसपास के क्षेत्र का पता लगाएगा। रोवर विभिन्न प्रकार के उपकरणों से सुसज्जित है जो इसे एक स्पेक्ट्रोमीटर, एक कैमरा और एक ड्रिल सहित चंद्र सतह का अध्ययन करने की अनुमति देगा।Chandrayaan-3 launch date News

Chandrayaan-3 launch date News

Chandrayaan-3 launch date News
Chandrayaan-3

चंद्रयान-3 मिशन भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम के लिए एक बड़ा मील का पत्थर है। 2019 में चंद्रयान-2 मिशन के बाद से चंद्रमा की सतह पर लैंडर और रोवर को सॉफ्ट-लैंड करने का यह देश का पहला प्रयास होगा। चंद्रयान-2 मिशन चंद्रमा पर लैंडर और रोवर भेजने में सफल रहा, लेकिन लैंडर दुर्घटनाग्रस्त हो गया। अंतिम अवतरण.Chandrayaan-3 launch date News

आदिवासी मजदुर पर पेशाब करने वाले व्यकित को पुलिस ने किया गिरफ्तार

चंद्रयान-3 मिशन से चंद्रमा के इतिहास और भूविज्ञान में बहुमूल्य अंतर्दृष्टि प्रदान करने की उम्मीद है। इससे वैज्ञानिकों को चंद्रमा पर पानी की बर्फ की संभावना को बेहतर ढंग से समझने में भी मदद मिल सकती है। यह मिशन भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम और वैश्विक अंतरिक्ष दौड़ में एक प्रमुख खिलाड़ी बनने की उसकी महत्वाकांक्षाओं को भी एक बड़ा बढ़ावा है।

चंद्रयान-3 मिशन के कुछ प्रमुख उद्देश्य इस प्रकार हैं:

  • चंद्रमा की सतह पर किसी लैंडर की सॉफ्ट लैंडिंग कराना।
  • लैंडर से एक रोवर तैनात करना और आसपास के क्षेत्र का पता लगाना।
  • चंद्रमा की सतह का अध्ययन करना, जिसमें इसकी संरचना, भूविज्ञान और जल बर्फ की संभावना शामिल है।
  • डेटा एकत्र करना जिससे वैज्ञानिकों को चंद्रमा के इतिहास और विकास को बेहतर ढंग से समझने में मदद मिलेगी।
  • अंतरिक्ष अन्वेषण में भारत की तकनीकी क्षमताओं का प्रदर्शन करना।
  • चंद्रयान-3 मिशन एक प्रमुख उपक्रम है और यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि विफलता का जोखिम हमेशा बना रहता है। हालाँकि, भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के पास अंतरिक्ष अन्वेषण में सफलता का एक मजबूत ट्रैक रिकॉर्ड है और उसे विश्वास है कि मिशन सफल होगा।

चंद्रयान-3 का प्रक्षेपण भारत के लिए एक महत्वपूर्ण घटना है और इस पर अंतरराष्ट्रीय समुदाय की पैनी नजर है। मिशन की सफलता भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम के लिए एक बड़ा बढ़ावा होगी और इससे वैश्विक अंतरिक्ष दौड़ में देश की स्थिति मजबूत करने में भी मदद मिलेगी।


Spread the love

Leave a Reply