February 24, 2024
Are pacific lamprey dangerous to humans

Are pacific lamprey dangerous to humans

Spread the love

धरती पर 45 करोड़ सालों से जिन्दा है ये मछली , डायनाशोर का भी कर चुकी है शिकार

नई दिल्ली :Are pacific lamprey dangerous to humans -अजीब दिखने वाली बिन जबड़े की ये मछली बहुत ही खतरनाक और जानलेवा होती है। अनुमान है कि इस समूह की मछलियां इस धरती पर 45 करोड़ सालों से जिन्दा है। इस दौरान धरती पर अनेकों विनाश हुए लेकिन इन मछलियों ने अपने आप को किसी तरह बचाया इस वजह से इनकी प्रजाति खत्म नहीं हुई। इस मछली की खास वजह ये है कि ये मास तो नहीं खाती है लेकिन अपने शिकार को सूखा कर ही मार डालती है। ये मछलियां अपने शिकार का खून ओर शरीर में मौजूद तरल पदार्थ चूस लेती हैं। इस वजह से इनका शिकार सुख जाता है और अंत में मर जाता है।

बता दें कि इस मछली का नाम बिना जबड़े वाली इस मछली का नाम है पैसिफिक लैम्प्रे (Pacific Lamprey)। प्रमुख चैनल आजतक की एक रिपोर्ट के अनुसार इन मछलियों ने अपने जमाने में डायनाशोर का भी खून चूसा है। इतना ही नहीं ये पेड़ों को का भी शिकार करती रही हैं। इन्होने पेड़ों को भी चूस कर सूखा डाला था। ये मछलियां आमतौर पर उत्तरी प्रशांत महासागर में पाई जाती हैं. आमतौर पर कैलिफोर्निया से अलास्का तक. इसके अलावा ये बेरिंग सागर में भी मिलती है. यानी रूस से लेकर जापान के तटों तक. जहां तक बात रही इनके खाने या पीने की तो ये सिर्फ तरल पदार्थ पीते हैं. प्रशांत महासागर की सैलमन, फ्लैटफिश, रॉकफिश और हेक का खून।

Are pacific lamprey dangerous to humans

Are pacific lamprey dangerous to humans
pacific lamprey

ये मछलियां इस लिए भी खास हैं क्यूंकि ये लगभग 45 करोड़ साल पुरानी प्रजाति है। इस दौरान धरती पर अनेकों विनास हुए लेकिन इन्होने अपने आप को बचाये रखा। इस वजह से प्राचीन समूह अगनाथा से आती हैं। दुनियां में इस समय 40 के आसपास मछलियों की प्रजाति है। लेकिन ये मछलियां इसलिए भी सबसे अलग है कि इनके जबड़े नहीं होते बल्कि इनके छोटे छोटे दाँत मुँह में चारों तरफ लगे होते हैं। जिस वजह से शिकार इनके बाहर फस जाता है और ये उसका खून चूस लेती हैं। ये मछलियां दिखने में ईल जैसी दिखती है।

इस प्रजाति की मछलियां एक बार में लगभग दो लाख अंडे देती है। हैरानीजनक बात ये है कि इनके अंडे भी दस साल तक तलहटी इलाकों में जमे रहते हैं। इसके बाद जब वह बड़े होते हैं तो फिर ये पानी के निचले बहाव वाले इलाके में जाती हैं. ताकि वहां आसानी से खाना मिल सके। वयस्क लैम्प्रे मछली 33 इंच लंबी होती है. यह सैकड़ों किलोमीटर तक तैर सकती हैं. खासतौर से खाने और प्रजनन के लिए सही जगह की तलाश में. कई पक्षी, स्तनधारी जीव और मछलियों का शिकार भी बनती हैं लैम्प्रे मछलियां. क्योंकि इनके शरीर में सैलमन मछलियों से पांच गुना ज्यादा मांस होता है।

आपको कैसी लगी ये जानकारी हमे कमेंट में जरूर बताना वहीं ऐसी अन्य जानकारियों व न्यूज़ के लिए हमारी वेबसाइट को फॉलो भी जरूर करें। इस जानकारी को अपने फ्रेंड्स के साथ शेयर भी करें। धन्यवाद !


Spread the love

Leave a Reply