February 24, 2024
Summon or Warrants Kya hote hain

Summon or Warrants Kya hote hain

Spread the love

Summon or Warrants Kya hote hain ?What are summons and warrants ,what is the difference between summons and warrants

एक सम्मन और एक वारंट दो अलग-अलग कानूनी दस्तावेज हैं जिनका उपयोग आपराधिक न्याय प्रणाली में एक आरोपी व्यक्ति को अदालत में लाने के लिए किया जाता है। दोनों एक न्यायिक अधिकारी द्वारा जारी किए जाते हैं, जैसे कि एक मजिस्ट्रेट या एक न्यायाधीश, लेकिन वे अलग-अलग उद्देश्यों की पूर्ति करते हैं और उनके अलग-अलग कानूनी निहितार्थ हैं।

Summon or Warrants Kya hote hain
Summon or Warrants

समन क्या होता है Summon or Warrants Kya hote hain

एक सम्मन एक औपचारिक दस्तावेज है जो एक अदालत द्वारा एक आपराधिक मामले में प्रतिवादी या गवाह के रूप में अदालत में उपस्थित होने के लिए एक व्यक्ति की आवश्यकता के लिए जारी किया जाता है। यह अभियुक्तों के लिए एक नोटिस है कि उनके खिलाफ मामला दायर किया गया है और आरोपों का जवाब देने के लिए उन्हें एक विशिष्ट तिथि और समय पर अदालत में उपस्थित होना आवश्यक है। समन उन मामलों में जारी किया जाता है जहां अपराध गैर-संज्ञेय है, जिसका अर्थ है कि पुलिस वारंट के बिना गिरफ्तारी नहीं कर सकती है।

Summon or Warrants Kya hote hain
Summon

वारंट क्या होता है

दूसरी ओर, एक वारंट एक कानूनी दस्तावेज है जो पुलिस को किसी ऐसे व्यक्ति को गिरफ्तार करने के लिए अधिकृत करता है जिस पर अपराध करने का संदेह है। यह एक न्यायिक अधिकारी, जैसे मजिस्ट्रेट, द्वारा पुलिस द्वारा प्रस्तुत साक्ष्य या किसी निजी व्यक्ति द्वारा दर्ज की गई शिकायत पर विचार करने के बाद जारी किया जाता है। एक वारंट उन मामलों में जारी किया जाता है जहां अपराध संज्ञेय है, जिसका अर्थ है कि पुलिस के पास वारंट के बिना गिरफ्तारी करने का अधिकार है। 

Summon or Warrants Kya hote hain
Warrants

संक्षेप में, एक समन एक आपराधिक मामले में प्रतिवादी या गवाह के रूप में अदालत में पेश होने के लिए एक औपचारिक सूचना है, जबकि एक वारंट एक कानूनी दस्तावेज है जो पुलिस को एक ऐसे व्यक्ति को गिरफ्तार करने के लिए अधिकृत करता है जिस पर अपराध करने का संदेह है।


Spread the love

Leave a Reply