May 20, 2024
Exploring Junagarh Fort: A Glimpse into Rajput History

Exploring Junagarh Fort: A Glimpse into Rajput History

Spread the love

जूनागढ़ किला: राजपूत महानता का प्रतीक |

जूनागढ़ किला, राजस्थान के बीकानेर शहर के हृदय में स्थित है, और राजपूत शासकों के वीरता और वास्तुकला की महानता का एक शानदार प्रतीक के रूप में खड़ा है। 16वीं सदी में इम्पीरियल अकबर की सेना के विश्वसनीय सिपाही राजा राय सिंह ने इस महान किले की नींव रखी थी, और यह किला उसके बड़े शौर्य और वास्तुकला को स्मरण करता है।

ऐतिहासिक महत्व:
जूनागढ़ किले का निर्माण 1589 में शुरू हुआ और लगभग 30 वर्षों तक चला। इसकी रखवाली करने के लिए चट्टानी ऊँचाइयों पर स्थित होने का चयन किया गया, जिससे इसकी सुरक्षा बढ़ गई, और यह राजस्थान में उन कुछ किलों में शामिल है जो कभी नहीं जीते गए।

वास्तुकला का अद्भुत उदाहरण:
किले की वास्तुकला राजपूत, मुघल, और गुजराती शैलियों का शानदार मेल है। इसकी भारी दीवारें, जिनमें जटिल नक्काशी और उत्कृष्ट पत्थरी जाली काम है, उस समय के कारीगरों की कला की धारा को प्रतिबिंबित करती है। किला कई महल, मंदिर, पविलियन, और बालकनी समेत कई भवनों से बना है, जिनमें जटिल डिज़ाइन और नाजुक कलाकृति का प्रदर्शन है।

Exploring Junagarh Fort: A Glimpse into Rajput History
Exploring Junagarh Fort: A Glimpse into Rajput History

किले की मुख्य विशेषताएँ:

चंद्र महल: यह महल पूर्व में राजघराने का आवास था और इसमें अत्यंत सुंदर फ्रेस्को, शानदार दरपत्तियाँ, और अद्वितीय दर्पण हैं।
अनुप महल: इसकी जटिल सोने की परतों और नाजुक लकड़ी की छतें से प्रसिद्ध है, और यह महल बीकानेर शासकों के न्यायालय के रूप में कार्य किया करता था।
फूल महल: कांच की मोज़ेक काम और दर्पण कार्य से सजा यह महल राजघरानों के रसोदे और मनोरंजन के लिए प्रयुक्त होता था।
करणी माता मंदिर: इस मंदिर को राजघराने की प्रार्थना स्थल के रूप में समर्पित किया गया है, और इसे स्थानीय और पर्यटक दोनों ही पूजते हैं।

 

 

 


Spread the love

Leave a Reply